उनकी मोहब्बत का अभी निशान बाकी हैं,
नाम लब पर हैं मगर जान अभी बाकी हैं,
क्या हुआ अगर देख कर मूंह फेर लेते हैं वो..
तसल्ली हैं कि अभी तक शक्ल कि पहचान बाकी हैं!

Unki mohabbat ka abhi nishan baki hai,
Naam hothon par hai, Jaan abhi baki hai
Kya hua agar dekh kar muh pher leti hai wo..
Tasalli toh hai ki Chehre ki pehchaan abhi baki hai!

Shayaris

Hitesh Katara

Tech Hero,Blogger and Seo Handler.Learning is Earning. Follow me on Google+

Post A Comment: